सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बढ़ती धार्मिक असहनशीलता

बढ़ती, धार्मिक, असहनशीलता, Increasing, Religious, Intolerance,
मुझे एक बात का बहुत दुःख है कि आज़ादी के इतने साल बाद भी हम दूसरे धर्मो के साथ प्यार से रहना नहीं सीख पाए। आज भी कुछ धर्म के ठेकेदार लोगों को अपने हिसाब से ढालने में सफल हो रहे है। इन धर्मो के ठेकेदारों का केवल एक मक़सद होता है हमें बाँट कर हम पे राज करना। आज के सभ्य और शिक्षित समाज से हम अपेक्षा कर सकते हैं कि वह इस छोटी सोच से ऊपर उठ कर एक ऐसे समाज को बनाएगें जिसमें सभी लोग दूसरें धर्मो का सम्मान करेंगें। आज भारत के पीछे रहने का प्रमुखः कारण धार्मिक कट्टरपंथता है।

में धर्म का विरोधी नहीं हूँ पर में धर्म के नाम पर अंधविश्वास और कट्टरवाद को बढ़ाने के ख़िलाफ़ हूँ। धर्म के केवल एक मकसद है, हमें आध्यात्मिक ज्ञान का रास्ता दिखाना और एक अच्छे व्यक्ति बनाना , पर आज इस का बिलकुल उलटा हो रहा है। आध्यात्मिक ज्ञान तो बहुत पीछे छूट गया है और अंधविश्वास हम पर छा गया है। इस अन्धविश्वास और कट्टरवाद के कारण लोगों में नफ़रत फैल रही है, और लोगों का लोगों के ऊपर से विश्वास उठ रहा है।

अगर हम एक अच्छे समाज की रचना करना चाहते है तो हमें धार्मिक सहनशीलता को बढ़ावा देना होगा। हमें यह सही मायने में समझना होगा कि धर्म का असली मतलब क्या है और क्या एक धार्मिक इंसान के फर्ज होते है। इस कार्य में धार्मिक गुरु और राजनेता, लोगो का पथप्रदर्शन कर सकते है कि वह कैसे एक अच्छे इंसान बने अपने धर्म पर चलते हुए। पर आज इस का उलटा हो रहा है लोगों में नफ़रत और धार्मिक असहनशीलता फैला कर। लोगों का भी यह फ़र्ज बनता है कि वह सही और गलत की पहचान करे और एक अच्छे समाज की रचना करे.

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्वच्छ पर्यावरण का महत्व

 अंग्रेजी में पढ़ेंहमारे लिए पर्यावरण का ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारा स्वास्थ्य और पृथ्वी पर हमारा अस्तित्व हमारे पर्यावरण के स्वास्थ्य पर सीधे निर्भर करता है। दुनिया भर में कई स्थानों पर गंदगी और प्रदूषण का पता लगाना बहुत आसान है और दुनिया की एक बड़ी आबादी इन बुरी और अस्वच्छ परिस्थितियों में रह रही है।लोग अशुद्ध पेयजल पी रहे हैं और वे प्रदूषित हवा में सांस ले रहे हैं; इसलिए, पर्यावरण के इस प्रदूषण के कारण कई लोग विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हैं। जबकि अगर हम स्वच्छ वातावरण में रहते हैं तो हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं और हम एक स्वच्छ वातावरण के महत्व को समझकर इसे प्राप्त कर सकते हैं।अफसोस की बात है कि हम इस मामले को सुलझाने के लिए बहुत कम काम कर रहे हैं और हम धीरे-धीरे पृथ्वी को अधिक प्रदूषित स्थान बना रहे हैं। आज, दुनिया के कई हिस्सों में साफ-सुथरी जगहें पाना बहुत मुश्किल है। धीरे-धीरे, दुनिया भर की सरकारें इस मुद्दे का समाधान करने के लिए आँखें खोल रही हैं।इस दुनिया में प्रत्येक व्यक्ति को यह समझने की जरूरत है कि स्वच्छ वातावरण सभी मनुष्यों के स्वास्थ्य के लिए …

सुशांत राजपूत और रिया चक्रवर्ती की लव स्टोरी का सच

अंग्रेजी में पढ़ेंआज पूरी दुनिया को सुशांत राजपूत और रिया चक्रवर्ती की प्रेम कहानी की सच्चाई का बेसब्री से इंतजार है। यह कहानी तब सुर्खियों में आई जब सुशांत के पिता ने सुशांत की आत्महत्या के लिए रिया को दोषी ठहराया। अचानक, रिया चक्रवर्ती जो कहानी में एक सकारात्मक चरित्र थी, एक नकारात्मक चरित्र बन जाती है, और हम अग्रणी टीवी चैनलों पर उनके संबंधों के दैनिक पोस्टमॉर्टम को देखने लगे। हम  दैनिक टीवी चैनलों को सुशांत और रिया के पिछले जीवन से जुड़ी नई कहानियों और ऑडियो क्लिपिंग से भरा हुए देखते हैं। इन सबने उनकी प्रेम कहानी पर सवालिया निशान लगा दिया है। क्या यह वास्तव में एक प्रेम कहानी थी या यह कुछ और थी।
शुशांत और रिया की प्रेम कहानी ने बुरी शक्ल ले ली क्योंकि इसका बुरा अंत सुशांत की मौत के साथ हुआ । उनकी मृत्यु पूरे देश के लिए एक आघात के रूप में सामने आई और किसी को भी इस खबर पर विश्वास नहीं हुआ कि वह आत्महत्या कर सकते हैं। उन लोगों के अनुसार सुशांत एक बोल्ड किरदार थे जो उनके आसपास रहते थे। इसलिए, हर कोई हैरान है कि ऐसा क्या हुआ जिसके कारण सुशांत को यह चरम कदम उठाना पड़ा। सुशांत की मृत्यु 1…

डाउनलोड करे हिंदी सुविचार की एंड्राइड ऐप (Download Hindi Thoughts (Suvichar) Free Android App)

अब आप हिंदी भाषा में सुंदर हिंदी सुविचार अपने मोबाइल फ़ोन पर भी पढ़ सकते है।  इसके लिए आप को हिंदी विचार की मुफ्त में उपलब्ध एंड्राइड ऐप को डाउनलोड करना होगा।  इस ऐप के द्वारा सैंकड़ो हिंदी विचारों को पढ़ सकते है।  सभी हिंदी विचारों को सुंदर तस्वीरों के रूप में पेश किया गया है।  इन विचारों को अमल में लाकर हम जीवन में कई अच्छे सुधार ला सकते है।

आज के समय में मोबाइल फ़ोन हमारा एक सच्चा साथी बन गया है और इससे हम कई कार्य ले सकते है।  मोबाइल एप्लीकेशन (ऐप) हमारे मोबाइल फ़ोन और अधिक सक्षम बना रही है।  हिंदी विचार की मोबइल ऐप इसी तरफ एक कदम है।  इस ऐप की मदद से आप कभी भी और कही हिंदी सुविचार  पढ़ सकते है और इतना ही नहीं आप इन हिंदी विचारों को अपने मित्रों के साथ बाँट भी सकते हो।

हिंदी विचार ऐप के जरिये आप रोज नये हिंदी सुविचार  भी पढ़ सकते है।  यह ऐप आप को हिंदी विचार का सबसे बड़ा संग्रह प्रधान करती है जो लगातार बढ़ता ही जा रहा है।

हिंदी विचार ऐप डाउनलोड करने के यहाँ क्लिक करे 

कुछ हिंदी विचार की झलकियाँ






ओर अधिक हिंदी विचार पढ़ने  के लिए जाये  - http://hindithoughts.arvindkatoch.com/

डिजीलॉकर में प्रमाण पत्र / दस्तावेज कैसे प्राप्त करें? P.S.E.B दसवीं कक्षा की मार्कशीट

अंग्रेजी में पढ़ें आज, मैं आपको डिजी लॉकर के बारे में अपडेट करूंगा और इसका उपयोग कैसे करे? हम एक डिजिटल दुनिया में रहते हैं जहाँ अधिकांश चीजें डिजिटल रूप से हमारे लिए उपलब्ध हैं। इसमें हमारे महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे स्कूल / कॉलेज प्रमाण पत्र, सरकार द्वारा जारी पहचान पत्र, अन्य दस्तावेज शामिल हैं। हम इन दस्तावेजों को डिजिटल रूप से प्राप्त कर सकते हैं और वे सभी कानूनी उद्देश्यों के लिए 100% वैध हैं। इन दस्तावेजों को प्राप्त करने और संग्रहीत करने के लिए, हमारे पास एक लोकप्रिय ऐप है, जिसे डिजी लॉकर कहा जाता है। डिजी लॉकर ऐप पर कोई भी व्यक्ति अपने महत्वपूर्ण डिजिटल दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वाहन पंजीकरण विवरण, बीमा विवरण और शैक्षिक प्रमाण पत्र पा सकता है।
पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड जैसे कई बोर्ड और विश्वविद्यालयों ने केवल इस प्लेटफॉर्म के माध्यम से नए प्रमाण पत्र जारी करना शुरू किया है। कक्षा X, VIII और V 2020 परीक्षाओं की मार्कशीट केवल डिजीलॉकर के माध्यम से जारी की जाती है। अब, हमें यह समझने की आवश्यकता है कि डिजिलॉकर वर्तमान समय की एक आवश्यकता है और सभी को यह जानने की आवश…

क्या हम एक नंगे समाज की रचना कर रहे है? (Are we creating a naked Society?)

आज हम सब के सामने एक बड़ा सवाल यह है कि क्या हम एक नंगे समाज की रचना कर रहे है।  नंगे समाज से मेरा मतलब एक ऐसे समाज से है जो समाज आपने उच्च मूल्यों को भूल कर धरातल की और जा रहा हो। आज का समाज बहुत ही खोखली बुनियाद पर टिका हुआ है, जिस कारण से यह तेज़ी से टूटता जा रहा है। पर हैरान करने वाली बात यह है कि हम देख कर भी सब अनदेखा कर रहे है।  आज समाज में बुराई एक बेकाबू हो चुकी जंगल की आग की तरह पुरे समाज को खा जाने के लिए बेकरार है।

आज के समाज में चोर ही राजा है वह ईमानदार लोगों के लिए कानून बना रहा है।  रिश्ते केवल स्वार्थ तक सीमित होकर रह गए है और हर एक दूसरे में बुराई ढूंढने में व्यस्त है।  आज लोग जीवन में ख़ुशी से कहीं अधिक पैसे को महत्व दे रहे है और एक दिन पैसे के फंदे में फंस कर अपने जीवन को गवा भी बैठते है।  अच्छे रिश्तों का तो समाज में एक अकाल आ गया है।  पुँजीपति समाज हर इंसान को एक मशीन बना देना चाहता है और सरकार अपने भ्रष्टाचार से लोगों का खून चूस रही है।

आज इस बात की एक होड़ चल पड़ी है कि कौन कितना अधिक नंगा हो सकता है।  लाखों लोग आत्महत्या कर रहे है, पानी पहले तो मिलता नहीं है और अ…