सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मौत अवास्तविक है (सृमंद भगवद गीता)

महाभारत युद्ध की शुरुआत में, अर्जुन योद्धा के रूप में अपने कार्य के बारे में भ्रमित होता है, जो अपने ही परिवार के सदस्यों और शिक्षकों की हत्या भी शामिल है, जो अब दुश्मन सेना का हिस्सा हैं. इसलिए, अर्जुन भगवान कृष्ण को कहता है, कि वह इस जंग को लड़ना नहीं चाहता है, क्योंकि यह लड़ाई उसे अपने ही रिश्तेदार को मारने के लिए मजबूर करेगी, जिसे वह प्यार करता है और सम्मान करता है। अर्जुन भगवान को कहता है, कि वह अपने रिश्तेदारो की हत्या में एक महान कष्ट को देखता है, हालांकि वे उसके खिलाफ लड़ रहे हो।

भगवान कृष्ण जबकि अर्जुन के मन की स्थिति को समझते हुए, उसे धरती पर उपलब्ध महान गुप्त सृमंद भगवद गीता के ज्ञान देते है। गीता के दूसरे अध्याय में भगवान अर्जुन को आत्मा (सच्चा आत्म) का रहस्य कहते है। भगवान बताते है की हर जीवित व्यक्ति की सच आत्म वो नहीं है जो हम देखते हैं, जबकि उसके शरीर पर विचार करते हुए; तथापि, जो वास्तव में हर व्यक्ति में जीवन के लिए जिम्मेदार है यह अनदेखी है शक्तिशाली बल आत्मा के रूप में जाना जाता है।

भगवान अर्जुन को जो आत्मा सभी रूपों और समय में सामान रहती है बताते है। हमारे शरीर सिर्फ वर्तमान में मौजूद है और यह अतीत में मौजूद नहीं था, साथ ही साथ यह भविष्य में मौजूद नहीं होगा, लेकिन हमारी आत्मा (सच आत्म) अतीत में मौजूद था और आज हमारे शरीर के अंदर मौजूद है यह भविष्य में भी उपस्थित रहेगा। यह आत्मा केवल प्रकृति द्वारा आवंटित कर्तव्य को पूरा करने के लिए यह विभिन्न निकायों को बदलती है।

भगवान के अनुसार मानव कष्ट अवास्तविक शरीर को वास्तविक रूप में विचार करने के साथ शुरू होते है, और सची असली आत्मा के बारे में भूलने से। व्यक्ति का शरीर परिवर्तन के और मौत के अधीन है, और इस दुनिया में कोई भी ताकत इस बात को बदल नही सकती हें। भगवान अर्जुन को कहते है की वह इस समस्या को और भ्रम सामना कर रहा है, क्योंकि वह उसके सामने पेश शरीर संरचना को बहुत अधिक ध्यान दे रहा है।

भगवान अर्जुन को बताते है, कि इस लड़ाई में उसके रिश्तेदारों की हत्या करने से, वह केवल उसके रिश्तेदार को मदद करेगा भाग्य के अनुसार नए निकायों में शरण लेने में, जबकि उनकी अतामाये वही ही रहेगा। गीता की इन पंक्तियों भगवान हमारे सामने महान रहस्य रखते है कि मौत अवास्तविक है अगर हम अपने सच्चे आत्म को समझे। हमारा सच्चा आत्म (atman) नष्ट नहीं किया जा सकता है और यह हमेशा एक ही रहता है।

ज्यादातर लोगों को मौत का डर है, क्योंकि वे अपने शरीर को अपना असली समजते है; तथापि, यदि हम अपने सच्चे आत्म देखना शुरू करे और इस अवधारणा पर विश्वास करे, तो हमारे बहुत से दुःख स्वतः ही दूर हो जायेगे।

इस अवधारणा को और अधिक पुष्टि के लिए "श्रीमद भगवद गीता" को पढ़ने के लिए की सलाह दी जाती है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन को गहराई से समझने में महत्वपूर्ण १६ सुविचार (Thought in Hindi to understand Life Deeply)

जीवन को गहराई से समझना कोई आसान बात नहीं है, कई बार हमें जीवन को समझने के लिए पूरा जीवन भी कम पड़ता है।  इसलिए हम आपके लिए लाये है कुछ चुनिंदा विचार जो हमें जीवन की अलग -२ बातों के बारे में बताते है।  जीवन को अच्छे से जीने के लिए कुछ मूलभूत बातों का ज्ञान होना आवश्यक है, नहीं हम कई गलतियां कर सकते है।  यह सुविचार जीवन से सम्बंधित है और जीवन के बारे में हमारे ज्ञान को बढ़ाती है। 1)  सपने हमेशा सच नहीं होते -  सपने हमेशा सच नहीं होते (Life Quote) 2) जीवन में कभी भी किसी को बेकार ना समझे -  जीवन में कभी भी किसी को बेकार ना समझे  3) भूल करके इंसान सीखता तो है - भूल करके इंसान सीखता तो है 4) व्यर्थ कार्य जीवन को थका देता है - व्यर्थ कार्य जीवन को थका देता है 5)  जो हम आज दूसरों का बुरा करेगें  -  जो हम आज दूसरों का बुरा करेगें   6) अपने जीवन को बदलने के लिए आपको केवल- अपने जीवन को बदलने के लिए आपको केवल 7) जीवन के अच्छे दिनो में कभी भी उन लोगों- जीवन के अच्छे दिनो में कभी भी उन लोगों 8) कभी भी दूसरों को ना आंके- कभी भी दूसरों को ना आंके

स्वच्छ पर्यावरण का महत्व

 अंग्रेजी में पढ़ें हमारे लिए पर्यावरण का ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारा स्वास्थ्य और पृथ्वी पर हमारा अस्तित्व हमारे पर्यावरण के स्वास्थ्य पर सीधे निर्भर करता है। दुनिया भर में कई स्थानों पर गंदगी और प्रदूषण का पता लगाना बहुत आसान है और दुनिया की एक बड़ी आबादी इन बुरी और अस्वच्छ परिस्थितियों में रह रही है। लोग अशुद्ध पेयजल पी रहे हैं और वे प्रदूषित हवा में सांस ले रहे हैं; इसलिए, पर्यावरण के इस प्रदूषण के कारण कई लोग विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हैं। जबकि अगर हम स्वच्छ वातावरण में रहते हैं तो हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं और हम एक स्वच्छ वातावरण के महत्व को समझकर इसे प्राप्त कर सकते हैं। अफसोस की बात है कि हम इस मामले को सुलझाने के लिए बहुत कम काम कर रहे हैं और हम धीरे-धीरे पृथ्वी को अधिक प्रदूषित स्थान बना रहे हैं। आज, दुनिया के कई हिस्सों में साफ-सुथरी जगहें पाना बहुत मुश्किल है। धीरे-धीरे, दुनिया भर की सरकारें इस मुद्दे का समाधान करने के लिए आँखें खोल रही हैं। इस दुनिया में प्रत्येक व्यक्ति को यह समझने की जरूरत है कि स्वच्छ वातावरण सभी मनुष्यों के स्वास्थ्य क

जीवन में बुरी संगत से बचना क्यों जरुरी है

 मैंने कई लोगों को बुरे लोगों का साथ देने के कारण उनका  जीवन को नष्ट करते देखा है। एक बुरी संगत दुनिया में कई जिंदगियों को खराब करने के लिए जिम्मेदार है। इसलिए, एक व्यक्ति को अच्छे जीवन के लिए संगत से बचने की आवश्यकता है। जैसे सड़ा हुआ सेब टोकरी में अन्य सभी अच्छे सेब को नष्ट कर देता है उसी तरह खराब संगत इससे जुड़े सभी को नष्ट कर देती है। हमारे आस-पास के लोगों हम सभी पर बहुत प्रभाव डालते है । अगर हम नकारात्मक या गलत लोगों से घिरे हैं तो उनकी गलत गतिविधियों के शिकार होने की संभावना बहुत अधिक है। मैंने जीवन में बुरी संगत से दूर रहने की आवश्यकता पर एक छोटी सी प्रस्तुति बनाई है ताकि हम एक अच्छा जीवन जी सकें। यह प्रस्तुति जीवन में एक बुरी कंपनी का अनुसरण करने के खतरों के बारे में स्पष्ट दृष्टिकोण प्रदान करती है। मुझे आशा है कि आप इसे जानेंगे और इसके द्वारा दिए गए मूल्यवान सबक सीखेंगे।

जीवन सांप सीढ़ी के खेल के समान है I (Life is Like Snake and Ladder Game)

दुनिया  में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसने कभी सांप सीढ़ी का खेल न खेला हो I  सांप  और  सीढ़ी का खेल एक  बहुत ही सरल खेल है, जिसमें हम एक अंक से शुरू हो होकर सौ अंक तक पहुँचने की कोशिश करते है I  आगे बड़ते हुए हमें रास्ते में सांप और सीढ़ी मिलती है, सांप आप को पीछे  पहुंचा देता है और सीढ़ी आपको आगे बड़ा देती है I  इस खेल में खिलाड़ियों का आगे पीछे होना चलता रहता है I  कभी जीत के बहुत करीब पहुँचने  वाला खिलाड़ी सांप के डंसने के कारण खेल के आरंभ में पहुँच जाता है और बहुत पीछे चल रहा खिलाड़ी सीढ़ी मिलने के कारण आगे पहुँच जाता है I  जीवन भी सांप और सीढ़ी के खेल से काफी मिलता जुलता है क्योंकि जीवन में भी लोगो का आगे पीछे होना लगा रहता है I  कई लोग जीवन में सीढ़ी रूपी अवसर मिलने से  दूसरों से आगे निकल जाते है और वहीं दूसरी तरफ कई आगे निकल चुके लोग सांप रूपी समस्या के कारण जीवन में पिछड़ जाते है I  पुरे जीवन में लोगो का आगे पीछे होना लगा रहता है और कई बार बिल्कुल पिछड़ चुके लोग जीवन में एक सुनहरी अवसर पा कर बहुत आगे आ जाते है I  इसी तरह जीवन में बहुत आगे निकल चुके लोग, समस्याओं का सामना कर के

क्या हम एक नंगे समाज की रचना कर रहे है? (Are we creating a naked Society?)

आज हम सब के सामने एक बड़ा सवाल यह है कि क्या हम एक नंगे समाज की रचना कर रहे है।  नंगे समाज से मेरा मतलब एक ऐसे समाज से है जो समाज आपने उच्च मूल्यों को भूल कर धरातल की और जा रहा हो। आज का समाज बहुत ही खोखली बुनियाद पर टिका हुआ है, जिस कारण से यह तेज़ी से टूटता जा रहा है। पर हैरान करने वाली बात यह है कि हम देख कर भी सब अनदेखा कर रहे है।  आज समाज में बुराई एक बेकाबू हो चुकी जंगल की आग की तरह पुरे समाज को खा जाने के लिए बेकरार है। आज के समाज में चोर ही राजा है वह ईमानदार लोगों के लिए कानून बना रहा है।  रिश्ते केवल स्वार्थ तक सीमित होकर रह गए है और हर एक दूसरे में बुराई ढूंढने में व्यस्त है।  आज लोग जीवन में ख़ुशी से कहीं अधिक पैसे को महत्व दे रहे है और एक दिन पैसे के फंदे में फंस कर अपने जीवन को गवा भी बैठते है।  अच्छे रिश्तों का तो समाज में एक अकाल आ गया है।  पुँजीपति समाज हर इंसान को एक मशीन बना देना चाहता है और सरकार अपने भ्रष्टाचार से लोगों का खून चूस रही है। आज इस बात की एक होड़ चल पड़ी है कि कौन कितना अधिक नंगा हो सकता है।  लाखों लोग आत्महत्या कर रहे है, पानी पहले तो मिलता नह