सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मौत अवास्तविक है (सृमंद भगवद गीता)

महाभारत युद्ध की शुरुआत में, अर्जुन योद्धा के रूप में अपने कार्य के बारे में भ्रमित होता है, जो अपने ही परिवार के सदस्यों और शिक्षकों की हत्या भी शामिल है, जो अब दुश्मन सेना का हिस्सा हैं. इसलिए, अर्जुन भगवान कृष्ण को कहता है, कि वह इस जंग को लड़ना नहीं चाहता है, क्योंकि यह लड़ाई उसे अपने ही रिश्तेदार को मारने के लिए मजबूर करेगी, जिसे वह प्यार करता है और सम्मान करता है। अर्जुन भगवान को कहता है, कि वह अपने रिश्तेदारो की हत्या में एक महान कष्ट को देखता है, हालांकि वे उसके खिलाफ लड़ रहे हो।

भगवान कृष्ण जबकि अर्जुन के मन की स्थिति को समझते हुए, उसे धरती पर उपलब्ध महान गुप्त सृमंद भगवद गीता के ज्ञान देते है। गीता के दूसरे अध्याय में भगवान अर्जुन को आत्मा (सच्चा आत्म) का रहस्य कहते है। भगवान बताते है की हर जीवित व्यक्ति की सच आत्म वो नहीं है जो हम देखते हैं, जबकि उसके शरीर पर विचार करते हुए; तथापि, जो वास्तव में हर व्यक्ति में जीवन के लिए जिम्मेदार है यह अनदेखी है शक्तिशाली बल आत्मा के रूप में जाना जाता है।

भगवान अर्जुन को जो आत्मा सभी रूपों और समय में सामान रहती है बताते है। हमारे शरीर सिर्फ वर्तमान में मौजूद है और यह अतीत में मौजूद नहीं था, साथ ही साथ यह भविष्य में मौजूद नहीं होगा, लेकिन हमारी आत्मा (सच आत्म) अतीत में मौजूद था और आज हमारे शरीर के अंदर मौजूद है यह भविष्य में भी उपस्थित रहेगा। यह आत्मा केवल प्रकृति द्वारा आवंटित कर्तव्य को पूरा करने के लिए यह विभिन्न निकायों को बदलती है।

भगवान के अनुसार मानव कष्ट अवास्तविक शरीर को वास्तविक रूप में विचार करने के साथ शुरू होते है, और सची असली आत्मा के बारे में भूलने से। व्यक्ति का शरीर परिवर्तन के और मौत के अधीन है, और इस दुनिया में कोई भी ताकत इस बात को बदल नही सकती हें। भगवान अर्जुन को कहते है की वह इस समस्या को और भ्रम सामना कर रहा है, क्योंकि वह उसके सामने पेश शरीर संरचना को बहुत अधिक ध्यान दे रहा है।

भगवान अर्जुन को बताते है, कि इस लड़ाई में उसके रिश्तेदारों की हत्या करने से, वह केवल उसके रिश्तेदार को मदद करेगा भाग्य के अनुसार नए निकायों में शरण लेने में, जबकि उनकी अतामाये वही ही रहेगा। गीता की इन पंक्तियों भगवान हमारे सामने महान रहस्य रखते है कि मौत अवास्तविक है अगर हम अपने सच्चे आत्म को समझे। हमारा सच्चा आत्म (atman) नष्ट नहीं किया जा सकता है और यह हमेशा एक ही रहता है।

ज्यादातर लोगों को मौत का डर है, क्योंकि वे अपने शरीर को अपना असली समजते है; तथापि, यदि हम अपने सच्चे आत्म देखना शुरू करे और इस अवधारणा पर विश्वास करे, तो हमारे बहुत से दुःख स्वतः ही दूर हो जायेगे।

इस अवधारणा को और अधिक पुष्टि के लिए "श्रीमद भगवद गीता" को पढ़ने के लिए की सलाह दी जाती है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन को गहराई से समझने में महत्वपूर्ण १६ सुविचार (Thought in Hindi to understand Life Deeply)

जीवन को गहराई से समझना कोई आसान बात नहीं है, कई बार हमें जीवन को समझने के लिए पूरा जीवन भी कम पड़ता है।  इसलिए हम आपके लिए लाये है कुछ चुनिंदा विचार जो हमें जीवन की अलग -२ बातों के बारे में बताते है।  जीवन को अच्छे से जीने के लिए कुछ मूलभूत बातों का ज्ञान होना आवश्यक है, नहीं हम कई गलतियां कर सकते है।  यह सुविचार जीवन से सम्बंधित है और जीवन के बारे में हमारे ज्ञान को बढ़ाती है। 1)  सपने हमेशा सच नहीं होते -  सपने हमेशा सच नहीं होते (Life Quote) 2) जीवन में कभी भी किसी को बेकार ना समझे -  जीवन में कभी भी किसी को बेकार ना समझे  3) भूल करके इंसान सीखता तो है - भूल करके इंसान सीखता तो है 4) व्यर्थ कार्य जीवन को थका देता है - व्यर्थ कार्य जीवन को थका देता है 5)  जो हम आज दूसरों का बुरा करेगें  -  जो हम आज दूसरों का बुरा करेगें   6) अपने जीवन को बदलने के लिए आपको केवल- अपने जीवन को बदलने के लिए आपको केवल 7) जीवन के अच्छे दिनो में कभी भी उन लोगों- जीवन के अच्छे दिनो में कभी भी उन लोगों 8) कभी भी दूसरों को ना आंके- कभी भी दूसरों को ना आंके

क्या हम एक नंगे समाज की रचना कर रहे है? (Are we creating a naked Society?)

आज हम सब के सामने एक बड़ा सवाल यह है कि क्या हम एक नंगे समाज की रचना कर रहे है।  नंगे समाज से मेरा मतलब एक ऐसे समाज से है जो समाज आपने उच्च मूल्यों को भूल कर धरातल की और जा रहा हो। आज का समाज बहुत ही खोखली बुनियाद पर टिका हुआ है, जिस कारण से यह तेज़ी से टूटता जा रहा है। पर हैरान करने वाली बात यह है कि हम देख कर भी सब अनदेखा कर रहे है।  आज समाज में बुराई एक बेकाबू हो चुकी जंगल की आग की तरह पुरे समाज को खा जाने के लिए बेकरार है। आज के समाज में चोर ही राजा है वह ईमानदार लोगों के लिए कानून बना रहा है।  रिश्ते केवल स्वार्थ तक सीमित होकर रह गए है और हर एक दूसरे में बुराई ढूंढने में व्यस्त है।  आज लोग जीवन में ख़ुशी से कहीं अधिक पैसे को महत्व दे रहे है और एक दिन पैसे के फंदे में फंस कर अपने जीवन को गवा भी बैठते है।  अच्छे रिश्तों का तो समाज में एक अकाल आ गया है।  पुँजीपति समाज हर इंसान को एक मशीन बना देना चाहता है और सरकार अपने भ्रष्टाचार से लोगों का खून चूस रही है। आज इस बात की एक होड़ चल पड़ी है कि कौन कितना अधिक नंगा हो सकता है।  लाखों लोग आत्महत्या कर रहे है, पानी पहले तो मिलता नह

डाउनलोड करे हिंदी सुविचार की एंड्राइड ऐप (Download Hindi Thoughts (Suvichar) Free Android App)

अब आप हिंदी भाषा में सुंदर हिंदी सुविचार अपने मोबाइल फ़ोन पर भी पढ़ सकते है।  इसके लिए आप को हिंदी विचार की मुफ्त में उपलब्ध एंड्राइड ऐप को डाउनलोड करना होगा।  इस ऐप के द्वारा सैंकड़ो हिंदी विचारों को पढ़ सकते है।  सभी हिंदी विचारों को सुंदर तस्वीरों के रूप में पेश किया गया है।  इन विचारों को अमल में लाकर हम जीवन में कई अच्छे सुधार ला सकते है। आज के समय में मोबाइल फ़ोन हमारा एक सच्चा साथी बन गया है और इससे हम कई कार्य ले सकते है।  मोबाइल एप्लीकेशन (ऐप) हमारे मोबाइल फ़ोन और अधिक सक्षम बना रही है।  हिंदी विचार की मोबइल ऐप इसी तरफ एक कदम है।  इस ऐप की मदद से आप कभी भी और कही हिंदी सुविचार  पढ़ सकते है और इतना ही नहीं आप इन हिंदी विचारों को अपने मित्रों के साथ बाँट भी सकते हो। हिंदी विचार ऐप के जरिये आप रोज नये हिंदी सुविचार  भी पढ़ सकते है।  यह ऐप आप को हिंदी विचार का सबसे बड़ा संग्रह प्रधान करती है जो लगातार बढ़ता ही जा रहा है। हिंदी विचार ऐप डाउनलोड करने के यहाँ क्लिक करे  कुछ हिंदी विचार की झलकियाँ ओर अधिक हिंदी विचार पढ़ने  के लिए जाये  - http://hindithoughts.arvindkatoch.

जीवन सांप सीढ़ी के खेल के समान है I (Life is Like Snake and Ladder Game)

दुनिया  में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसने कभी सांप सीढ़ी का खेल न खेला हो I  सांप  और  सीढ़ी का खेल एक  बहुत ही सरल खेल है, जिसमें हम एक अंक से शुरू हो होकर सौ अंक तक पहुँचने की कोशिश करते है I  आगे बड़ते हुए हमें रास्ते में सांप और सीढ़ी मिलती है, सांप आप को पीछे  पहुंचा देता है और सीढ़ी आपको आगे बड़ा देती है I  इस खेल में खिलाड़ियों का आगे पीछे होना चलता रहता है I  कभी जीत के बहुत करीब पहुँचने  वाला खिलाड़ी सांप के डंसने के कारण खेल के आरंभ में पहुँच जाता है और बहुत पीछे चल रहा खिलाड़ी सीढ़ी मिलने के कारण आगे पहुँच जाता है I  जीवन भी सांप और सीढ़ी के खेल से काफी मिलता जुलता है क्योंकि जीवन में भी लोगो का आगे पीछे होना लगा रहता है I  कई लोग जीवन में सीढ़ी रूपी अवसर मिलने से  दूसरों से आगे निकल जाते है और वहीं दूसरी तरफ कई आगे निकल चुके लोग सांप रूपी समस्या के कारण जीवन में पिछड़ जाते है I  पुरे जीवन में लोगो का आगे पीछे होना लगा रहता है और कई बार बिल्कुल पिछड़ चुके लोग जीवन में एक सुनहरी अवसर पा कर बहुत आगे आ जाते है I  इसी तरह जीवन में बहुत आगे निकल चुके लोग, समस्याओं का सामना कर के

प्राचीन हस्तनिर्मित लकड़ी से बना मंदिर शक्ती देवी छत्राडी, चंबा

अंग्रेजी में पढ़ें चंबा में भरमौर की मेरी यात्रा कठिन इलाके और संकरी सड़कों की वजह से बहुत रोचक और रोमांच से भरी थी। ऐतिहासिक शक्ति देवी मंदिर को देखने के लिए सबसे कठिन ड्राइव छत्राडी तक पहुंचना था। छत्राडी  गांव चंबा-भरमौर रोड पर चम्बा (HP) से 40 KM दूर स्थित है। मैंने भरमौर से वापसी की यात्रा पर इस जगह का दौरा करने का फैसला किया। छत्राडी की सड़क एक खड़ी चढ़ाई है और आपको इस सड़क पर वाहन चलाते समय बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है। हालांकि, एक बार जब आप वहां पहुंच जाते हैं, तो यह एक स्वर्ग है और आप इसे बहुत शांति से देखते हैं। मंदिर कुछ दूरी पर स्थित है जहां से सड़क समाप्त होती है और आपको मंदिर को देखने के लिए गांव से गुजरना पड़ता है।  छत्राडी गांव उस पुराने रस्ते पर स्थित है जिससे पहले लोग मणिमहेश के लिए जाते थे, जिसका उपयोग आजकल सड़क मार्ग से सीधे संपर्क के कारण नहीं किया जाता है। छतरी गाँव एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और आप इसके चारों ओर पहाड़ियों और इसके विपरीत पहाड़ियों पर स्थित छोटे-छोटे गाँवों के शानदार दृश्य का आनंद ले सकते हैं। इस जगह पर जाकर, आपको ऊपरी चंबा के लोगों