गुरुवार, 23 जुलाई 2009

हरियाणा में प्यार जुर्म है

आज की घटना से पूरे देश को धक्का लगा, जब एक युवा को हरियाणा में भीड़ मार डाला, जो उसकी अपनी पत्नी के गांव में उच्च न्यायालय के आदेश पर उसे बचाने के लिए पहुँच था। उसकी पत्नी का अपने ही परिवार वालों के द्वारा अपहरण कर लिया गया था और घर के अंदर बंद कर दिया गया था, क्योंकि वे इस शादी का अनुमोदन नहीं कर रहे थे। इसलिए, इस लड़के ने अपनी पत्नी को बचने के लिए पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय से संपर्क किया, और न्यायालय के उसके अपने पक्ष में आदेश पारित का दिया।

यह लड़का कुछ पुलिस वालो के साथ अपनी पत्नी के गांव पहुंचा, उच्च न्यायालय के आदेश को प्रस्तुत करने के लिए और घर जेल से अपनी पत्नी को छुडाने के लिए; लकिन, दृश्य पर मौजूद भीड़ ने लड़के और पुलिस के आदमियों पर हमला किया। बाद में भीड़ पुलिस ने छीन कर लड़के को दूर ले गयी और उसे मौत के घाट उत्तर दिया। इस घटना से स्पष्ट रूप से पूरे देश को धक्का लगा, कि कैसे तालिबानी शासन भारत के अपने हरियाणा राज्य में मौजूद है।

इन घटनाओं की तरह हरियाणा के लिए नए नहीं हैं, जहां मजबूत जातिगत आधारित प्रणाली मौजूद है, जो किसी भी हद तक एक ही जाति या प्रतिद्वंद्वी गांवों के लोगों के बीच प्यार और विवाह को रोकने के लिए जा सकती है। हाल ही में, इस ही तरह की स्थिति हमारे सामने आई, जब एक जाति आधारित पंचायत ने एक गोत्र के जोड़ी के बीच शादी को भंग करने का निर्णय दिया था। पंचायत ने अपने निर्णय को सही करने के लिए दोनों लड़के और लड़की को मारने की धमकी भी दी।

इस तरह की घटनाए आसानी से किसी को भी झटका दे सकती हैं लेकिन वे भारतीय राज्य हरियाणा के लिए सही हैं। वर्तमान हरियाणा राज्य सरकार भी इस मुद्दे को गंभीरता से नहीं ले रही है और वे इसे एक सामाजिक विकार के रूप दे रही है. वर्तमान शिक्षित दुनिया में, यह बहुत ही दुख की बात है ऐसे सख्त नियम और कानून को लोगों पर समाज दुआरा जाति व्यवस्था के नाम पर लगाये जाना। भारतीय संविधान इस तरह के व्यवहार की अनुमति नहीं देता है पर दुःख से ऐसी प्रथाए भारत में मौजूद हैं आजादी के 60 से अधिक वर्षों के बाद भी।

इस लेख की अंग्रेजी में पड़े
Love is Crime in Haryana

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Popular Posts